अभिनेता सुशांत सिंह आत्महत्या मामले में आदित्य ठाकरे का हाथ, नारायण राणे बोले - tajakhabars.in

tajakhabars.in

डिजिटल इंडिया का डिजिटल न्यूज़

Breaking

Home Top Ad

Tuesday, October 27, 2020

अभिनेता सुशांत सिंह आत्महत्या मामले में आदित्य ठाकरे का हाथ, नारायण राणे बोले


महाराष्ट्र. अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले को लेकर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के खिलाफ भाजपा ने मोर्चा खोल दिया है। सोमवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की दशहरा रैली के बाद पूर्व मुख्यमंत्री व भाजपा सांसद नारायण राणे ने कहा कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले में उनके पुत्र व पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे का हाथ था।

राणे ने सोमवार को पत्रकार वार्ता में उद्धव ठाकरे पर जमकर प्रहार किया। उन्होंने कहा कि सुशांत सिंह और दिशा सालियान की कथित आत्महत्या मामले की जांच जारी है, लेकिन उद्धव ठाकरे शक्ति का दुरुपयोग कर अपने बेटे को क्लीनचिट देने में लगे हुए हैं। उद्धव की दशहरा रैली आदित्य ठाकरे को क्लीनचिट देने के लिए थी।

उल्लेखनीय है कि उद्धव ठाकरे ने रविवार को दशहरा रैली में सुशांत सिंह मामले में चुप्पी तोड़ते हुए यह कहा था कि लोगों ने बिहार के बेटे के न्याय के लिए मेरे बेटे, मुंबई और मुंबई पुलिस के साथ महाराष्ट्र को बदनाम करने की कोशिश की गई है। इस पर राणे ने कहा कि जल्द ही सच्चाई सामने आ जाएगी कि किसने सुशांत सिंह की हत्या की थी और किसने दिशा सालियान के साथ दुष्कर्म किया था।

शिवसेना के विधायक मोदी के नाम पर चुनकर आए

पूर्व मुख्यमंत्री नारायण राणे कहा कि अगले चुनाव में शिवसेना 10 से 15 सीटों में सिमट जाएगी। शिवसेना के 53 विधायक तो पीएम मोदी के नाम पर चुनाव जीतकर आए हैं। राणे ने उद्धव ठाकरे को मराठा विरोधी बताया और कहा कि वे डीजीपी, जीएसटी और बजट के बारे में कोई  समझ नहीं, वे बेईमानी कर मुख्यमंत्री बने हैं। राणे ने कहा कि इसके पहले राज्य में जितने भी मुख्यमंत्री हुए वे अपने भाषण, कार्यशैली और विचारों से महाराष्ट्र का मान बढ़ाया है। ठाकरे इसके उपवाद हैं। राणे ने शिवसेना प्रवक्ता संजय राऊत को विदूषक कहकर उनकी खिल्ली उड़ाई।

मुख्यमंत्री के लायक नहीं उद्धव ठाकरे

भाजपा सांसद नारायण राणे ने उद्धव ठाकरे प्रगतिशील महाराष्ट्र के (बुद्धू) मुख्यमंत्री बताया और कहा कि वे मुख्यमंत्री बनने के लायक नहीं है। दशहरा रैली में न किसानों के बारे में कुछ कहा गया और न ही राज्य की आर्थिक स्थिति को लेकर कोई बात हुई।

कोरोना महामारी से महाराष्ट्र  सबसे ज्यादा प्रभावित है। अब तक 43 हजार से ज्यादा मौतें हो चुकीं हैं। लेकिन इस संक्रमण पर उन्होंने कुछ नहीं बोला। क्या इसकी जिम्मेदारी मुख्यमंत्री की नहीं है। वहीं शिवसेना नेता अर्जुन खोतकर ने राणे के बारे में कहा कि वे जिस संस्कृति में पले-बढ़े हैं उनसे कोई दूसरी अपेक्षा नहीं की जा सकती।